भारतीय भाषा मंच
72, द्वितीय तल, 'संस्‍कारम्' रीगल बिल्डिंग, बाबा खड़ग सिंह मार्ग, नई दिल्‍ली- 110001
Ph- 011-65794966, 9868100445
Email- bhaaratiyabhaashaamanch@gmail.com
मुख्‍य पृष्‍ठ समिति उद्देश्‍य प्रमुख कार्य संगोष्‍ठी एवं सम्‍मेलन संपर्क प्रो. वृषभ प्रसाद जैन
सूचना राष्‍ट्रीय संस्‍कृत सम्‍मेलन में भाग लेने एवं विचार-विमर्श हेतु संस्‍कृत भाषा के संबंध में आपके विचार आपेक्षित हैं। कृपया इस लिंक के माध्‍यम से अपने विचार आवश्‍य भरें। प्रोफेसर वृषभ प्रसाद जैन की व्‍यक्तिगत जानकारी हेतु क्लिक करें
  द्विदिवसीय राष्‍ट्रीय संस्‍कृत सम्‍मेलन
दिनांक- 25 एवं 26 नवंबर 2017,
नई दिल्‍ली
 
प्रथम घोषणा पत्र  
आयोजन समिति
राष्‍ट्रीय संस्‍कृत सम्‍मेलन के उद्देश्‍य  
सम्‍मेलन का प्रारूप  
संम्‍मेलन में आमंत्रित व्‍यक्ति  
शोध-पत्रों हेतु विषय  
सहभागिता पत्रक  
आवश्‍यक सूचना  
संपर्क सूत्र  
संस्‍कृत भाषा के संबंध में विचार

भारतीय भाषा मंच


लंबे समय से देश के भीतर और बाहर भारतीय भाषा-प्रेमियों के बीच में भारतीय भाषाओं को समृद्ध करने की दृष्टि से राष्‍ट्रीय स्‍तर पर भारतीय भाषाओं के लिए पूर्णत: समर्पित एक संगठन के गठन की आवश्‍यकता का अनुभव किया जा रहा था, जिसकी पृष्‍ठभूमि में भारत के विभिन्‍न राज्‍यों में भारतीय भाषा-प्रेमियों के बीच अनेक संवाद और संगोष्ठियाँ हुईं, जिनमें गम्‍भीर चर्चा के पश्‍चात् यह निर्णय लिया गया है कि राष्‍ट्रीय स्‍तर पर ''भारतीय भाषा मंच'' का गठन किया जाए, जो भारतीय भाषाओं के हितों की रक्षा और समृद्धि हेतु कार्य करे।

भाषा की आजादी ही हमारी वास्‍तविक आजादी है, ''निज भाषा की उन्‍नति ही सब प्रकार की उन्‍नति का आधार है'' इस सूत्र को साकार करने तथा भारतीय भाषाओं के विकास व प्रसार, दैनिक कार्यों में स्‍व-भाषा के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए भारतीय भाषा मंच का गठन दिनांक 20.12.2015 को नई दिल्‍ली में किया गया। यह सर्व-विदित तथ्‍य है कि सभी भारतीय भाषाओं की मूल वर्णमाला, वाक्‍य विन्‍यास तथा वर्ण्‍य विषय, लगभग एक समान हैं, परन्‍तु गुलामी के कालखण्‍ड में द्रविड़-आर्य-भेद डालकर भाषाई वैमनस्‍य को बढ़ाया दिया गया, इसी वैमनस्‍य की खाई को पाटने के लिए भारतीय भाष मंच के रूप में यह पहल है।
 
Copyright © 2017. All Rights Reserved.   मुख्‍य पृष्‍ठ समिति उद्देश्‍य प्रमुख कार्य संगोष्‍ठी एवं सम्‍मेलन संपर्क प्रो. वृषभ प्रसाद जैन  विकासकर्ता: प्रवेश कुमार द्विवेदी